लेख

व्यंग्य

मानहानि का मुकदमा यानी फेसवाश विवेक रंजन  श्रीवास्तव  व्यंग के हर पंच पर किसी न किसी की मानहानि ही की जाती है , ये और बात है कि सामने वाला उसका नोटिस लेता है या नही , और व्यंगकार को मानहानि का नोटिस भेजता है या नही . व्यंगकार अपनी बात का सार्वजनिककरण इनडायरेक्ट टेंस […]

लेख

आखिर क्यों?

एक युवा कलाकार प्रेक्षा मेहता ने फांसी लगा ली, समाचार पढ़ा। एक बार ,दो बार पढ़ा, आत्महत्या का कारण जानने के लिए….पढ़कर ज्ञात हुआ कि लॉक डाउन के चलते कैरियर की चिंता,निराशा,डिप्रेशन। सत्य कहूँ तो दुख कम गुस्सा ज्यादा आया, उसके इस कायरता पूर्ण कदम पर… समाचारों में उसकी एक्टिंग,भूमिकाओं  और किरदारों का सफरनामा था,लेकिन […]

लेख

करोना महामारी व माल्थस का जनसंख्या सिद्धांत

वाणिज्य (कॉमर्स) के विध्यार्थियों को कक्षा नवीं -दसवीं में बुक कीपिंग यानि लेखाशास्त्र के साथ एकॉनॉमिक्स अर्थात अर्थशास्त्र भी पढ़ाया जाता है । उस उम्र में अर्थशास्त्र कुछ छात्रों को बिल्कुल नहीं भाता क्योंकि जे के मेहता, के जी सेठ, एडम स्मिथ, रॉबिन्सन , अल्फ्रेड मार्शल व थॉमस राबर्ट माल्थस जैसे विद्वानो की अर्थशास्त्र पर […]

लेख

प्रति

प्रधान संपादक जी नमस्कार, भारत के धैर्य की एक बार फिर से परीक्षा ले रहा है चीन। वह हमारी सीमा पर नियमित अतिक्रमण भी करता रहा है। तो कैसे भारत आख़िरकार चीन को कैसे सबक सिखाए? इसी बिन्दु पर यह लेख। सादर, आर.के. सिन्हा सी-1/22, हुमायूँ रोड, नई दिल्ली -110003 अब आया है चीन की […]

लेख

कालापानी पर नेपाल की बेचैनी

——————————————- — डॉo सत्यवान सौरभ,   हाल ही में भारत के लिये स्थिति उस समय असहज हो गई जब कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिये भारत द्वारा लिपुलेख-धाराचूला मार्ग के उद्घाटन करने के बाद नेपाल ने इसे एकतरफा गतिविधि बताते हुए आपत्ति जताई। नेपाल के विदेश मंत्रालय ने यह दावा किया कि महाकाली नदी के पूर्व का […]

लेख

मुसाफिर हूँ यारों

          लगातार मजदूरों के पलायन की बातें सुन सुनकर और टीवी, व्हाट्सएप जैसे बहुत से माध्यमों के द्वारा बड़ी ही दुखदाई फोटो देख-देख कर मन बहुत ज्यादा व्यथित हो रहा था।सोच रहा था क्यों ना कुछ मजदूरों के पास जाकर उनकी स्थिति को जाना जाए।           मन के कोतुहल को मिटाने के लिए मैंने इन […]

लेख

देहातों की परेशानियां व मूलभूतअसुविधाएँ…?”

      *दिनेश गंगराड़े, इंदौर, दि.19-5-2020 प्रदेश में अनुमानतः 70 से 73 फीसदी जनता कुल 54 हजार गांवों में निवास करती है।याने 72 फीसदी गावो से हमारा प्रदेश बना है।स्वच्छ्ता अभियान के चलते भी हमारे देहातों में गंदगी व्याप्त है।हर गावँ गंदगी के पर्याय है।गावो में प्रवेश करते ही कम्पोस्ट खाद के गड्ढों से आपका सामना […]

लेख

उत्तर कोरोना काल में

कृषि की ओर लौटेंगे ग्रामीण युवा ब्रजेश कानूनगो पिछले कुछ वर्षों में कृषि भूमि स्वामियों की सबसे विकट समस्या जो आमतौर से उनसे सुनने को मिलती रही है, वह खेती करने में युवा श्रमिकों की कमी होना होती है।भरपूर मजदूरी देने के उपरांत खेतों में काम करने वाले युवा मजदूर उपलब्ध नहीं होते हैं। ग्रामीण […]

लेख

सही फैसला

                            कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जरुरी सावधानियां रखने के साथ जारी दूसरे लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने पर थी। तीसरे लॉकडाउन के लागू होने और हर क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के अनुसार अन्य छूट की घोषणा कर दी गई थी। देश की अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए शराब की बिक्री पर लगी […]

लेख

कोरोना के समांतर अम्फान का कहर

बंगाल की खाड़ी में आये अम्फान नामक चक्रवात ने इतना नुकसान अवश्य कर लिया है | जिसकी भरपाई कर पाने में कई वर्ष लग जाएंगे | यह जग जाहिर है कि बंगाल की खाड़ी में चक्रवातों का आना कोई नई बात नहीं है, क्योंकि इससे पहले 1970 में आए भोला तूफान को आज बुजुर्ग याद […]