FEATURED आस पास देश राज्य

प्रत्यारोपण के लिए अंग ले जाने को बनेंगे विशेष ड्रोन एयर कॉरिडोर

नयी दिल्ली 30 नवंबर (वार्ता) देश में 01 दिसंबर से ड्रोन के इस्तेमाल के लिए पंजीकरण शुरू हो जायेगा।

नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने बताया कि यह एक ऐतिहासिक दिन होगा। अन्य उद्देश्यों के साथ एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक प्रत्यारोपण के लिए अंग ले जाने में ड्रोन का इस्तेमाल किया जा सकेगा। हालाँकि, अभी सामानों की डिलिवरी आदि के लिए इसके इस्तेमाल की अनुमति नहीं दी गयी है। उन्होंने बताया कि 01 दिसंबर से पंजीकरण शुरू हो जायेगा तथा एक महीने के भीतर वास्तविक इस्तेमाल शुरू होने की उम्मीद है।
श्री सिन्हा ने बताया कि प्रत्यारोपण के लिए अंग ले जाने में समय की पाबंदी होती है। एक निश्चित समय के भीतर अंग को एक शरीर या ‘ऑर्गन बैंक’ से निकालकर प्राप्तकर्ता मरीज के शरीर में लगाना होता है। सड़क मार्ग की तुलना में ड्रोन से इसकी डिलिवरी जल्द और आसान होगी।
उन्होंने बताया कि इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए अस्पतालों में ‘ड्रोन पोर्ट’ बनाये जायेंगे जहाँ ड्रोन के उतरने और उड़ान भरने की विशेष सुविधा होगी। इसके अलावा हवा में विशेष ‘एयर कॉरिडोर’ बनाये जायेंगे। इस मार्ग से अंगों को कम से कम समय में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल पहुँचाया जा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *