साहित्य

मनकों का जोड़ घटाव

सुबह की सुंदर बेला में स्नान से निवृत होकर मालती देवी ने भगवान को नहला कर आसन पर विराजमान किया तिलक चंदन कर फूल अर्पित किये ।

“माला की थेली उठाई और माला फेरना शुरू किया हर मनके पर मंत्र पढ़ा ।”

लेकिन वावजूद इसके की मन स्थिर होता वो माला गिनने में लग गया ।

उससे हटा तो रसोईघर में होने वाली खटर-पटर पर चला गया ।

पता नहीं आज  बहू कैसी चाय बनाई होगी शायद वही काली चाय मिलेगी  तंग हाथ से वो और दे भी क्या सकती है ?

सोच का गलियारा तंग होने लगा खाने पीने और बच्चों के ऊधम पर जा कर केन्द्रित हो गया ।

माला का उद्देश्य आज भी पूरा नहीं हुआ ध्यान सधा  ही  नहीं ।

माला फेरना बंद कर कर डायरी निकाली माला की संख्या अंकित कर दी ।

अर्विना गहलोत

D9सृजनविहार

एन टी पी सी मेजा‌ जिला प्रयागराज पोस्ट कोडहर

पिनकोड 212301

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *