Uncategorized

बारिश से मिली राहत,वज्रपात की अलग-अलग घटनाओं में दो की मौत

रांची,। झारखंड की राजधानी रांची समेत राज्यभर के विभिन्न हिस्सों में बुधवार देर शाम हुई बारिश के बाद उमस भरी गर्मी से लोगों को राहत मिली, वहीं इस दौरान देवघर और गिरिडीह जिले में वज्रपात की दो अलग-अलग घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गयी।
राजधानी रांची में बुधवार की शाम करीब सात मिलीमीटर बारिश हुई, जिसके बाद जिला प्रशासन ने 22 जून तक वर्ग 1 से 3 के बच्चों को स्कूल में छुट्टी दिये जाने के आदेश को वापस ले लिया और गुरुवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत आज स्कूलों में पठन-पाठन हुआ।
इधर, देवघर में बुधवार की शाम आंधी और पानी के साथ हुए वज्रपात की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी। बताया गया है कि चित्रा थाना क्षेत्र के खैरबनी गाव में रहने वाले एक 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी।मृतक रिश्तेदार के घर से वापस अपने घर लौट रहा था ,इसी दौरान वह वज्रपात की चपेट में आ गया। उधर, गिरिडीह जिले के देवरी थाना क्षेत्र में आयी आंधी व बारिश के दौरान हुई वज्रपात की घटना में एक बच्ची की मौत हो गयी वहीं दो लोग घायल हो गए। घटना देवरी थाना क्षेत्र के बेडोडीह गांव की है। घटना के संबंध ने बताया जाता है की बेडोडीह गांव निवासी कपिलदेव वर्मा की पुत्री स्वीटी कुमारी (10 वर्ष) योगेश्वर वर्मा की पुत्री पूजा कुमारी (15 वर्ष) तारकेश्वर वर्मा के पुत्र सचिन कुमार (16 वर्ष) आम चुनने के लिए गांव स्थित आम के पेड़ के पास गई थी। इसी दौरान हुए वज्रपात के चपेट आकर तीनो घायल हो गई। घायल स्वीटी कुमारी, पूजा कुमारी व सचिन कुमार को उपचार के लिए सामुदायिक स्वस्थय केंद्र देवरी में भर्ती करवाया गया। जहां पर चिकित्सक द्वारा स्वीटी कुमारी (10वर्ष) को मृत घोषित कर दिया गया। इधर दो अन्य घायल सचिन कुमार व पूजा कुमारी का उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र देवरी में चल रहा है। इधर घटना की सूचना पाकर देवरी पुलिस सीएचसी पहुंच कर घटना की जानकारी ली।
दूसरी तरह बुधवार की देर शाम तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश होने पर दुमकावासियों ने उमस भरी गर्मी से राहत महसूस की। बारिश होने से लोग खुश होकर रोड में भींगते नजर आए। हालांकि बारिश शुरू होते ही बिजली आपूर्ति ठप्प हो गई। दुमका शहर अंधेरे में डुब गया। दुमका शहर में 7.15 से बारिश शुरू हुई। दुमका का तापमान सुबह से ही 40 डिग्री सेल्सियस पर था। लोग दिन भर गर्मी से परेशान थे। गर्मी के कारण स्कूलों की छुट्टी बढ़ा दी गई है। बारिश होने से लोगों ने थोड़ी राहत महसूस की। इधर जहां लोगों को इस भीषण गर्मी से राहत मिली तो वही लगभग दर्जनों घरों व दुकानों के करकट उड़ गए है। हाल ही में हंसडीहा में आई आंधी-तूफान से कई घरों के छप्पर उड़ गए थे। अभी भी कई लोगों ने अपने छप्पर नहीं बना पाए है
सिन्हा/11.14/13जून19

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *