लेख

ई-शिक्षा ! इंडिया तो पढ़ लेगा,भारत का क्या होगा?

   अमेरिका,ब्रिटेन,जापान,जर्मनी जैसे कई विकसित व विकासशील देशों में अधिकांशतः शिक्षण पद्धति का आधार ई-शिक्षा है, भारत भी ई-शिक्षा की और अग्रसर है। ई-शिक्षा का अर्थ इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों जैसे कंप्यूटर,लैपटॉप,मोबाइल,टैब,इंटरनेट आदि की सहायता से छात्रों को शिक्षित करने से है। ई-शिक्षा ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनो ही तरह से दी जा सकती है। ऑनलाइन शिक्षा में […]

लेख

फकीरेहुनर

मीत रे ,बन फकीर ना घुमा कर,धरती से, अम्बर  चुमा कर।  नित्य नया ,अविष्कार है होता अभियान में, सफल है होता, जगत के खातिर , मितवा रे   तू  , कुछ तो नया ईजाद कर,  विस्फोटक, दुष्कर्म से, दुषित को   निष्ठा पूर्वक , निजात कर ।खूद के खातिर , बहुत जीये,सबके खातिर , जी के देख, बदहाली, फटेहाली से […]

लेख

आरक्षण के मामलों में कोर्ट के फैसले विरोधाभासी क्यों है ??

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कुछ समुदायों को सीटों का आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं है. आरक्षण पर सुप्रीम कार्ट ने ये एक बड़ी टिप्‍पणी की है. शीर्ष न्‍यायालय ने कहा है कि किसी एक समुदाय को सीटों का आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका जिसमे  मेडिकल (नीट) […]

लेख

कहानी – घरों की दूरी मंजूर है दिलों की नहीं

“मां आप क्यों परेशान हो रही हो? नीतू जुबान की तेज है लेकिन दिल की बुरी नहीं है| आप तो जानती हैं ना उसे, 1 मिनट में नाराज हो जाना और फिर हंसना मुस्कराना| मैं समझा लूँगा उसे, आप सो जाओ हम कहीं नहीं जायेगें” रूकमणि जी के बडे़ बेटे राघव ने कहा|राघव अपने नाम की […]

लेख

मत बांटों सेना को प्रांत या मजहब के नाम पर

भारत-चीन के बीच हालिया निहत्थे संघर्ष में हमारे शूरवीरों ने दुश्मन सेना की कमर तोड़ी। उनके पराक्रम को पूरी दुनिया ने  देखा। लद्दाख की गलवान घाटी में तक़रीबन 14 हजार फुट की ऊंचाई पर हुए संघर्ष में शहीद हुए भारतीय फ़ौजी बिहार रेजिमेंट के 16वीं बटालियन के थे। उनमें से ज्यादातर बिहार और झारखण्ड से […]

लेख

कोरोना हारेगा… शिक्षक जीतेगा

कोरोना का कहर जारी है, उसने इंसान के स्वास्थ्य और अर्थव्यवस्था पर करारा प्रहार किया है, और इसी क्रम में अब बारी है नौनिहालों की शिक्षा की…तो क्या स्कूल बंद होने से शिक्षा व्यवस्था भी चरमरा जाएगी? ध्वस्त हो जाएगी? क्या कोरोना इसमें जीत जाएगा? अनेक प्रश्न सुरसा  की भाँति मुँह फाड़े खड़े है, लेकिन जिस तरह सुरसा […]

लेख

लोकतंत्र में नागरिकत्व की प्राणप्रतिष्ठा

                अनिल त्रिवेदी आज से करीब तीस साल पहले स्वाधीनता संग्राम और समाजवादी आन्दोलन के अग्रणी मामा बालेश्वरदयाल से एक शाम उनकी बामनिया स्थित कुटिया में देश की राजनीति पर लम्बी चर्चा के दौरान मैंने मामाजी से पूछा था आगे आने वाले समय में हमारा देश कैसा होगा ?मामाजी ने जवाब दिया अनिल जैसा देश […]

लेख

दरिया से बहुत दूर उतारा गया मुझे

1.पत्थर से नही प्यास से मारा गया मुझेपहले तो हलक़ से मेरी आवाज़ छीन लीफिर तेरा नाम लेकर पुकारा गया मुझे 2.पूछ कर तुमने सनम, कैसा गजब कर दियाहाल मेरा तो तुम्हे मालुम होना चाहिए था 3.मैं भूल बैठा था जिसको.. वो वाकया लेकर,नये पते पर आया, ख़त पुराना डाकिया लेकर। 4.होंगी हजारों खूबियाँ पर […]

लेख

*योग में स्थित मनुष्य के लक्षण*

 श्री भगवान ने कहा – जो मनुष्य बिना किसी फ़ल की कामना करते हुए काम को  अपना कर्तव्य समझ कर करता है, वही संन्यासी है और वही योगी है, न तो अग्नि को त्यागने वाला ही सन्यासी होता है, और न ही कार्यों को त्यागने वाला ही योगी होता है। काम को करने वाला ही […]

लेख

लघुकथा

कीमत एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन की एक बस्ती में से पुलिस तीन लोगों को पकड़ कर घसीटते हुए पुलिस जिप्सी की तरफ ले जा रही थी। उन का आरोप था कि उन तीनों ने टैक्सी चलाने के आड़ में लूटपाट और हत्या का धंधा बना रखा है, इनके सॉफ्ट टारगेट नवविवाहित जोड़े होते हैं। जिन्हें […]