काव्य ग़ज़ल

ग़ज़ल

***************”***********रोज़  उसको   न  बार  बार  करो।जो  करो  काम   आर  पार  करो।**************************आ   के   बैठो  गरीब   खाने   में,मेरी  दुनिया  को  मुश्कबार करो।**************************तेरे बिन है  खिजाँ खिजाँ  मौसम,आ के मौसम को खुशगवार करो।**************************जब तुझे मिल  गया  सनम  याराँ,अब न अाँखों को अश्कबार करो।**************************माँग   ली   है   हमीद   ने  माफी,अब  नहीं   और   शर्मसार  करो।**************************हमीद कानपुरी(अब्दुल हमीद इदरीसी)179, मीरपुर छावनी कानपुर9795772415

Leave a Reply