व्यापार

सोयाबीन फसल के लिए बायर की नई पेशकश एवरगोल एक्सटेंड

इन्दौर,:सोयाबीन मध्यप्रदेश में सर्वाधिक उगाई जाने वाली फसलों में से एक है। राज्य की लगभग 28 लाख हेक्टेयर भूमि में सोयाबीन की खेती की जाती है। क्‍युंकि बीज किसी भी फसल चक्र का प्रारंभिक बिंदु होता है,  इसलिए एक स्वस्थ फसल के लिए बीज और उससे उपजने वाले पौधे की सुरक्षा करना महत्वपूर्ण है। ऐसा बीज उपचार के माध्यम से किया जा सकता है,  जो कि शुरुआती अवस्था में फसलों को बीमारी से बचाने के लिए एक प्रभावी और आर्थिक रूप से किफायती विकल्प है। यह प्रक्रिया किसानों के बीच तेजी से स्वीकृति पा रही है।

बायर इंडिया के फसल विज्ञान प्रभाग ने फफूंदी का खात्मा करने में सक्षम एक नवाचारी और नई पीढ़ी के बीज उपचार उत्पाद एवरगोल एक्सटेंड को बाज़ार में लाया है। भारत में यह उत्पाद सोयाबीन और मूंगफली की फसलों में उनके बीज और पौधे को होने वाली बीमारियों पर नियंत्रण के लिए पंजीकृत है।

मध्यप्रदेश में, उग सूख (कॉलर रॉट), जडगलन (रूट रॉट) और सफेद फफूंदी, सामान्य फफूंदी जनित बीमारियां हैं, जो पौधे के विकास की शुरुआती अवस्था में सोयाबीन की फसलों पर असर डालती हैं।

Leave a Reply