साहित्य

ठंड में बढ़ जाती हैं हड्डियों की समस्याएं,

ठंड में हर दूसरा व्यक्तिजोड़ों के दर्द की शिकायत करता हुआ नजर आता है। तापमान में कमी के कारण नसें सिकुडऩे लगती हैं और विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियों और जोड़ों का दर्द बढ़ जाता है। हड्डियों में लचीलेपन की कमी हो जाती है, जिसके कारण जोड़ों में अकडऩ आ जाती है। ठंड ने धीरे-धीरे दस्तक देना शुरू कर दिया है। वैसे तो सर्दी का मौसम अपने साथ कई बीमारियां लेकर आता है। लेकिन इन बीमारियों में जोड़ों का दर्द एक गंभीर समस्या है, जो हर उम्र के व्यक्ति को प्रभावित करता है। मुबंई स्थित पी.डी.हिंदुजा नेशनल अस्पताल के हेड, आर्थोपेडिक्स डा.संजय अग्रवाला का कहना है कि आज जोड़ों का दर्द एक ऐसी समस्या बन गया है जिससे हर कोई परेशान है। जैसे-जैसे मौसम ठंडा होता जाता है, वैसे-वैसे लोगों में जोड़ों के दर्द की परेशानियां भी बढ़ती जाती हैं। ऐसे में लोगों को अपने जोड़ों व हड्डियों का खास ख्याल रखना पड़ता है।

वैसे तो सुबह की सैर हर मौसम में सेहत के लिए फायदेमंद है, लेकिन सर्दी के दिनों में यह कुछ खास फायदा देती है। हड्डियां कैल्शियम से बनी होती हैं, लेकिन हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए सिर्फ  कैल्शियम का सेवन ही काफी नहीं है, बल्कि विटामिन डी का सेवन भी आवश्यक है। विटामिन डी की कमी से हड्डियों में अकडऩ आने लगती है और मांसपेशियों में कमजोरी आती है। ठंड में हड्डियां इतनी कमजोर पड़ सकती हैं कि आपको चलने-फिरने में भी समस्या हो सकती है। यदि इन समस्याओं से बचना है और हडिडयों को मजबूत बनाए रखना है तो विटामिन डी और कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा का सेवन करें। मल्टीविटामिन भी कुछ हद तक फायदेमंद होती हैं। अपने खान पान पर भी ध्यान देना चाहिए।

डा.संजय अग्रवाला का कहना है कि जो लोग कंप्यूटर पर काम करने के लिए लंबे समय तक बैठे रहते हैं, उनके जोड़ों में दर्द होना सामान्य है। एक ही जगह पर ज्यादा देर तक बैठने से हड्डियों में ठंड लगने के कारण अकडऩ आ जाती है, जिससे जोड़ों में दर्द की समस्या हो जाती है। इस समस्या से बचने के लिए थोड़ी-थोड़ी देर पर उठकर शरीर को स्ट्रेच करें। लंबे समय तक एक ही पोस्चर में न बैठें। कंधों और गर्दन को झुका कर न बैठें।

Leave a Reply