व्यापार

डीजल कारों के बंद होने के नुकसान को भरेगी पेट्रोल संस्करणों तथा सीएनजी कारें : मारुति

नई दिल्ली । देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी डीजल इंजन वाले वाहनों का उत्पादन बंद करने के फैसले से बिक्री को होने वाले नुकसान को पूरा करने की तैयारी में जुट गई है। दरअसल इसके लिए मारुति सुजुकी पेट्रोल संस्करणों तथा सीएनजी विकल्पों पर ध्यान दे रही है। कंपनी ने ऑटो एक्सपो में कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल (एसयूवी) विटारा ब्रेजा का पेट्रोल संस्करण प्रदर्शित किया। अभी तक इसका सिर्फ डीजल इंजन संस्करण बाजार में था। कंपनी एस-क्रॉस का पेट्रोल संस्करण भी लाने की तैयारी में है। मारुति सुजुकी इंडिया के कार्यकारी निदेशक (बिक्री एवं विपणन) शशांक श्रीवास्तव ने कहा,हमें उम्मीद है कि डीजल इंजन के बंद होने से जो नुकसान होगा उसकी भरपाई पेट्रोल संस्करणों की संख्या बढ़ाकर कर लेने वाले है। यह मौजूदा पोर्टफोलियो की तुलना अगले साल से करने जैसा नहीं है बल्कि यह अगले साल मौजूदा पोर्टफोलियो से डीजल वाहनों को हटाकर की जाने वाली तुलना है। उन्होंने कहा,अप्रैल से जनवरी के दौरान कंपनी की कुल बिक्री में डीजल वाहनों की 21 प्रतिशत हिस्सेदारी रही। इस वित्त वर्ष में डीजल इंजन वाले वाहनों की बिक्री करीब 2.7 से 2.8 लाख इकाई रहने का अनुमान है।
कंपनी ने इस वित्त वर्ष के पहले नौ माह में घरेलू बाजार में कुल 12,45,197 वाहनों की बिक्री की है। यह साल भर पहले की समान अवधि की तुलना में 15.1 प्रतिशत कम है। विटारा ब्रेजा का पेट्रोल संस्करण इस श्रेणी में मुख्य मॉडल है।’’ कंपनी विटारा ब्रेजा का पेट्रोल संस्करण इसी महीने बाजार में उतारने जा रही है। कंपनी मार्च में एस-क्रॉस का पेट्रोल संस्करण उतारने की तैयारी कर रही है। कंपनी के डीजल वाहनों में स्विफ्ट, डिजायर, बलेनो, सिआज,विटारा ब्रेजा,एर्टिगा और सुपर कैरी शामिल है। हालांकि कंपनी ने कहा कि यदि उपभोक्ताओं के बीच अधिक कीमत पर डीजल वाहनों की मांग बनी रहती हैं तब वह 1.5 लीटर डीजल इंजनों को भारत स्टेज-6 मानक के अनुकूल बना सकती है। इसके बारे में कंपनी के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (इंजीनियरिंग) सी.वी.रमण ने कहा कि भारत स्टेज-6 के अनुकूल डीजल इंजन लाने के बारे में एक अप्रैल के बाद इनकी मांग का आकलन करने के बाद फैसला लिया जायेगा।
आशीष/11 फरवरी 2020

Leave a Reply