देश

भाजपा शासित एमसीडी अपने 24 हजार पेंशनधारकों का शीघ्र पेंशन जारी करे: दुर्गेश पाठक

नई दिल्ली (ईएमएस)। आम आदमी पार्टी ने एमसीडी द्वारा अपने सेवानिवृत्त कर्मचारियों का कई महीने से पेंशन नहीं देने को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा अब पेंशनधारकों की पेंशन पर राजनीति न करे और अपनी एमसीडी के 24 हजार पेंशनधारकों की पेंशन जल्द से जल्द जारी करे। पेंशन नहीं मिलने की वजह से पेंशनधारकों के परिवारों की हालत बेहद खराब है, लोग कर्ज ले रहे हैं और अपनी बचत को खर्च करने पर मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि पेंशन को लेकर यह लोग कोर्ट भी गए थे और 21 सितंबर 2020 को कोर्ट ने नार्थ एमसीडी को कड़ी फटकार लगाते हुए तत्काल पेंशन जारी करने का आदेश दिया था। कोर्ट का आदेश आए एक महीने से अधिक हो गए, लेकिन फिर भी भाजपा शासित एमसीडी ने अब तक पेंशन नहीं जारी किया। दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा एमसीडी को पिछले 14 साल चला रही है, अब भाजपा एक साल के लिए एमसीडी हमें दे दे, आप एक साल में बदली हुई एमसीडी देंखेंगे।
आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि यदि पूरी दुनिया में किसी ऐसे विभाग को ढूंढना हो, जिसे कुशासन और भ्रष्टाचार का प्रतीक बताया जा सकता है, तो वह भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम है। उन्होंने कहा कि पिछले 14 साल से दिल्ली नगर निगम में भाजपा की सरकार है और भारतीय जनता पार्टी ने नगर निगम को पूरी तरह से बर्बाद करके रख दिया है। रोजाना न्यूज चैनलों और अखबारों में खबरें पढ़ने को मिलती हैं कि एमसीडी के अस्पतालों में डॉक्टरों को वेतन नहीं मिल रहा है, एमसीडी के स्कूलों में अध्यापकों को वेतन नहीं मिल रहा है, सफाई कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा है, तमाम विभागों में ए, बी, सी और ग्रुप डी के कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने नगर निगम को इस कदर कंगाल कर दिया है कि जो लोग वर्तमान में नगर निगम के अधीन काम कर रहे हैं, उनका तो वेतन मिल ही नहीं रहा है, जो लोग सेवानिवृत्त हो चुके हैं, पिछले 6 महीने से उन बुजुर्गों की पेंशन भी भाजपा शासित नगर निगम ने नहीं दी है। हम सभी जानते हैं कि सेवानिवृत्त लोगों के लिए उनकी पेंशन ही जीवनयापन का एकमात्र जरिया होता है। ऐसी स्थिति में भी भ्रष्टाचार और अहंकार में डूबी भाजपा ने एमसीडी में काम करने वाले हजारों सेवानिवृत्त बुजुर्ग कर्मचारियों की पेंशन पिछले 6 महीने से नहीं दी है। एक आंकड़ा प्रस्तुत करते हुए दुर्गेश पाठक ने बताया कि करीब 24000 ऐसे बुजुर्ग सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं, जिनकी पेंशन भाजपा शासित नगर निगम ने पिछले लगभग 6 महीने से नहीं दी है। इन लोगों के घर में बेहद गंभीर हालात बने हुए हैं, कोई अपने रिश्तेदारों से कर्ज लेकर घर का गुजारा चला रहा है, तो कोई अपनी बैंक में जमा की हुई थोड़ी बहुत पूंजी को निकाल कर अपनी रोजी-रोटी चला रहा है। उन्होंने कहा कि इस उम्र में लगभग-लगभग सभी को स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं होती हैं, इस निकम्मी भाजपा के कारण इन बुजुर्गों के घर में हालात यह हो गए हैं कि यह लोग अपनी बीमारी का इलाज तक नहीं करा पा रहे हैं, दवाई तक लेने के लिए कई लोगों के पास पैसा नहीं है।
दुर्गेश पाठक ने बताया कि लगभग डेढ़ महीने पहले इन सभी पेंशनधारकों ने अपनी समस्या को लेकर कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया था। जब कोर्ट में इनकी समस्या की सुनवाई हुई तो कोर्ट ने भाजपा शासित नॉर्थ एमसीडी को बुरी तरह से फटकार लगाई और कहा कि तुरंत प्रभाव से इन सभी बुजुर्गों की पेंशन इनको दी जाए। 21 सितंबर 2020 को जारी किए गए कोर्ट के एक आदेश की प्रति मीडिया को दिखाते हुए दुर्गेश पाठक ने कहा कि कोर्ट का आदेश आए हुए भी एक महीने से अधिक समय बीत चुका है, परंतु अब तक भारतीय जनता पार्टी ने इन बुजुर्गों की पेंशन का पैसा इनको नहीं दिया है। आम आदमी पार्टी लगातार नगर निगम के कर्मचारियों के वेतन के लिए भारतीय जनता पार्टी से गुहार लगाती रही है, लगातार अपनी आवाज मीडिया के माध्यम से भाजपा के भ्रष्ट नेताओं तक पहुंचाने की कोशिश करती रही है, परंतु भाजपा के नेता अपने अहंकार में इस कदर डूबे हुए हैं कि उन्हें सिर्फ अपने सिवा और कुछ नहीं दिखाई देता है।
दुर्गेश पाठक ने कहा कि पिछले 14 साल से भाजपा दिल्ली नगर निगम को चला रही है और नगर निगम में भ्रष्टाचार का एक नया रिकॉर्ड कायम किया है, नगर निगम को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। हम भाजपा के नेताओं से कहना चाहते हैं कि 14 साल से आप नगर निगम को खस्ता हालत में चला रहे हैं, एक साल हमें दीजिए, हम इसी व्यवस्था के साथ दिल्ली नगर निगम को बेहतर तरीके से चला कर दिखाएंगे, सभी कर्मचारियों का वेतन देंगे, सभी बुजुर्गों की पेंशन देंगे और जिस प्रकार से दिल्ली सरकार का बजट डबल करके दिखाया है, उसी प्रकार से नगर निगम को भी लाभ में चला कर दिखाएंगे।
संदीप सिंह/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/01/ नवम्बर/२०२०