मध्य प्रदेश

कोरोना : मप्र में लॉकडाउन नहीं, नाइट कर्फ्यू लगेगा

भोपाल (ईएमएस)। त्योहारी सीजन खत्म होने के साथ ही कोरोना महामारी को लेकर नियमों की सख्ती का दौर शुरू हो गया है। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को समीक्षा बैठक की। इसके साथ ही मप्र में लॉकडाउन नहीं लगाने की भी घोषणा कर दी है। साथ ही स्पष्ट किया कि जिन क्षेत्रों में 5 फीसदी से अधिक पॉजिटिव मामले रहेंगे, वहां रात्रि कर्फ्यू लगाया जाएगा। बता दें कि राजधानी भोपाल और इंदौर में गुरुवार को अधिक मामले सामने आने के बाद समीक्षा बैठक बुलाई गई थी।
मुख्यमंत्री चौहान ने समीक्षा करने के बाद कहा कि मध्यप्रदेश में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। सरकार ने नाइट कर्फ्यू लगाए जाने का विकल्प रखा है। नाइट कफ्र्यू उन क्षेत्रों में लगाया जाएगा, जहां पॉजिटिव पाए जाने वाले मरीजों की संख्या अधिक है। ऐसे में क्षेत्रों में 5 फीसदी (100 टेस्ट में 5 पॉजिटिव) पॉजिटिव मरीज पाए जाने पर रात का कर्फ्यू जारी रहेगा। यह रात 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक जारी रहेगा। रात्रि कर्फ्यू का निर्णय जिले के कलेक्टर द्वारा क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक के बाद लिया जाएगा। इस दौरान मेडिकल और आकस्मिक सेवाओं के अलावा सभी चीजें बंद रहेगी।
बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि आगामी आदेश तक स्कूल, कॉलेज नहीं खोले जाएंगे। ऐसा कहा जा रहा था कि 20 नवंबर के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं। सिनेमाघरों में 50 फीसदी सीटों पर ही बुकिंग होगी। यह नियम पूर्व में भी लागू था।
समीक्षा बैठक में कहा गया कि शनिवार से प्रदेश के प्रत्येक जिले में क्राइसिस ग्रुप की नियमित बैठक होगी। इन बैठकों में कोरोना संक्रमण को रोकने की सिफारिशें तय होगी, जो सरकार को भेजी जाएगी। मुख्यमंत्री हर दूसरे दिन कोरोना के मामलों की समीक्षा करेंगे।
बैठक में यह बात भी सामने आई है कि लोग मास्क लगाने से परहेज कर रहे हैं। पूरे प्रदेश में मास्क लगाने पर सख्ती बढ़ाई जाएगी। मास्क नहीं लगाने वालों के खिलाफ चालानी कार्रवाई की जाएगी। इसे लागू करने की जिम्मेदार जिला प्रशासन की होगी। शादियों में मेहमानों की संख्या के बारे में कोई निर्णय नहीं हुआ है। फिलहाल, 200 लोगों को शादी में आने का नियम है।
दूसरी ओर, इंदौर में नगर निगम ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए शुक्रवार से मास्क नहीं पहनने वालों पर फिर से कार्रवाई शुरू कर दी है। मास्क नहीं पहनने वालों के चालान बनाए जा रहे हैं। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने इस संबंध में नगर निगम के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को मास्क अनिवार्य करने के निर्देश जारी कर दिए हैं।