ताज़ा खबर

राहुल गांधी ने वायनाड में बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजी थी राहत सामग्री

नई दिल्ली (ईएमएस)। वायनाड से सांसद और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर उपलब्ध कराए गए बाढ़ राहत सामग्री के हजारों पैकेट्स फेंके मिले हैं। ये पैकेट्स मल्लापुरम जिले के निलांबुर स्थित एक खाली दुकान में पड़े मिले हैं। आपराधिक अपशिष्ट ने स्थानीय निवासियों और वाम नेताओं ने इसकी आलोचना की है। फजीहत होने के बाद जिला कांग्रेस अध्यक्ष वीवी प्रकाश ने जांच के आदेश दिए हैं। राहुल गांधी की तस्वीर और बोल्ड लेटर्स में एमपी लिखे हुए सड़े गले फूड पैकेट्स एक खाली दुकान में पड़े मिले, जिसे कई महीनों बाद खोला गया था। डीडीसी प्रेजिडेंट ने कहा, ”हमें आइडिया नहीं कि क्या हुआ। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। लेकिन जो जिम्मेदार हैं उन्हें नहीं छोड़ा जाएगा। डीडीसी प्रेजिडेंट ने कहा कि उन्होंने इसको लेकर प्रदेश नेतृत्व को भी जानकारी दी है। पिछले मॉनसून में भारी बारिश के बाद वायनाड में कई भूस्खलन हुए थे। 2019 लोकसभा चुनाव में इस सीट से जीते कांग्रेस नेता ने बाढ़ और भूस्खलन से प्रभावित लोगों की मदद के लिए काफी सक्रियता दिखाई और फूड किट्स के साथ संसदीय क्षेत्र में पहुंचे थे। बुधवार को करीब एक ट्रक फूड किट्स फेंके हुए पाए गए। बाद में सीपीआई एम कार्यकर्ताओं ने एक विरोध रैली निकाली और कहा कि कांग्रेस नेताओं ने जानबूझकर यह किया। नीलांबुर विधायक पीवी अनवर ने कहा कई ऐसे सामान कई जगहों पर पड़े हुए थे। यह आपराधिक लापरवाही है। ये किट्स बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए थे। इसने कांग्रेस नेताओं को एक्सपोज कर दिया है।
अजीत झा/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/26/नवम्बर/2020