देश

इजाजत के बावजूद किसानों का बुराड़ी जाने से इनकार

नई दिल्ली (ईएमएस)।दिल्ली कूच पर अड़े पंजाब-हरियाणा, समेत कई राज्यों के किसानों को पुलिस ने शुक्रवार को राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति दे दी। सीमाएं खोल दी गईं। बुराड़ी स्थित निरंकारी समागम स्थल पर उन्हें प्रदर्शन की इजाजत भी मिल गई पर किसानों ने वहां जाने से इनकार कर दिया और रामलीला मैदान जाने पर अड़े रहे।इससे पहले किसान दिल्ली की ओर बढ़े तो सिंघू सीमा पर पुलिस के साथ जमकर झड़प हुई। यहां पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। पाबंदियां हटा लेने के बाद भी किसान सिंघू सीमा पर डटे हैं। इसकी वजह से पूरा हाईवे जाम है। उधर, पश्चिमी यूपी में भी किसानों ने सड़क पर प्रदर्शन किया। किसान आंदोलन के लिए निरंकारी मैदान पर तैयारियां युद्धस्तर पर की गई हैं। प्रशासन ने काफी हद तक प्रदर्शनकारियों के नेता की मांग के अनुसार मैदान पर जरूरी सुविधाएं जुटा भी ली गई हैं। डीसीपी विजयंता आर्या एवं जिले के अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ किसान संगठन के नेताओं ने शुक्रवार दोपहर को मैदान का दौरा किया। फिर यहां की तैयारियों को देखने के बाद जंतर मंतर की जगह निरंकारी मैदान पर प्रदर्शन के लिए तैयार हुए। इसके साथ ही मैदान पर सफाई कराई गई और फिर मच्छरों से निपटने के लिए फागिंग की गई। वहीं, नगर निगम द्वारा प्रकाश की व्यवस्था, पानी के टैंकर और अस्थाई शौचालय की व्यवस्था की गई। कुछ संख्या में प्रदर्शनकारी देर शाम तक पहुंचने शुरू हो गये थे। दिल्ली पुलिस ने एहतियातन मैदान के चारों तरफ भारी संख्या में सुरक्षा बल भी तैनात किए हैं। दिल्ली पुलिस प्रदर्शनकारियों की धरपकड़ में लगी रही। नई दिल्ली इलाके में प्रदर्शन कर रहे आम आदमी पार्टी के नेता समेत 67 लोगों को हिरासत में ले लिया। हालांकि दोपहर बाद ही पुलिस ने हिरासत में लिए लोगों को छोड़ दिया। सिंघु बार्डर पर तनाव बढ़ने के साथ ही दिल्ली में पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद थी। इस बीच सुरक्षाकर्मियों से बचते हुए प्रधानमंत्री निवास के पास आम आदमी पार्टी के पंजाब प्रांत के संयोजक जरनैल सिंह पार्टी के विधायकों के साथ प्रदर्शन करने पहुंच गए। हालांकि प्रधानमंत्री आवास से पहले ही पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। हिरासत में जरनैल सिंह के अलावा पंजाब से पार्टी के नौ विधायक भी थे। इसके अलावा जंतर मंतर के करीब पहुंचने की कोशिश कर रहे लोगों को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। दोपहर तक पुलिस ने 67 लोगों को हिरासत में लेकर अलग अलग थानों में रखा था। फिर दोपहर बाद उन्हें प्रदर्शन न करने की हिदायत के साथ रिहा कर दिया गया। हालांकि दोपहर बाद दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को दिल्ली में प्रवेश करने एवं धरने के लिए निरंकारी मैदान पर जगह देने का निर्णय ले लिया। इसके बाद धरपकड़ बंद हो गई और पूरा जोर हरियाणा से सटे सीमा पर रहा। प्रदर्शन के कारण दिल्ली के कई इलाकों में यातायात भी प्रभावित हुआ है। राष्ट्रीय राजधानी सीमाओं से लगे कई स्थानों पर यातायात का मार्ग बदल दिया गया है। दिल्ली से लगने वाले गाजियाबाद, फरीदाबाद और गुरुग्राम सीमा पर वाहनों की तलाशी भी बढ़ा दी गई, जिससे वहां लंबा जाम लग गया।
अजीत झा/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/28/नवम्बर/2020