देश

दिल्ली में हवा की हालत हुई खराब, आने वाले दिनों और बद्तर होंगे हालात

नई दिल्ली (ईएमएस)। दिल्ली के लोग अब भी जहरीली हवा में सांस ले रहे हैं, राजधानी की हवा सुधरने का नाम ही नहीं ले रही है। शुक्रवार को यहां हवा की गति और पैटर्न में हुए बदलाव के कारण दिल्ली की हवा की गुणवत्ता ’बहुत खराब’ श्रेणी में पहुंच गई है। हवा धीमी होने के कारण प्रदूषकों का फैलाव धीमा हो गया। 35 निगरानी स्टेशनों में से कम से कम 17 स्टेशन लाल कैटेगरी में पहुंच गए। सरकारी एजेंसियों ने पूर्वानुमान लगाया है कि ऐसी संभावना है कि अगले दो दिनों में वायु गुणवत्ता सूचकांक अधिक बिगड़ सकता है और शनिवार तक ’गंभीर’ श्रेणी तक जा सकता है, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के शाम 4 बजे के बुलेटिन के अनुसार, AQI 382 था, जो गुरुवार को 341 से अधिक था। बुधवार को यह 373 था। अधिकांश निगरानी स्टेशन जो ’गंभीर’ श्रेणी के हैं, उनमें आनंद विहार, आईटीओ, विवेक विहार, अशोक विहार, बवाना, नरेला और मुंडका जैसे हॉट स्पॉट शामिल हैं। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, वर्तमान में जलने वाली फसल की घटनाएं लगभग खत्म हो गई हैं. लेकिन इससे निकले प्रदूषक वातावरण में जमा हुए हैं और स्थानीय प्रदूषक प्रतिकूल मौसम की वजह से फैलने में सक्षम नहीं हैं।
आईएमडी के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि दिन के दौरान हवा की गति लगभग 6-7 किमी प्रति घंटे थी, जो फैलाव के लिए अनुकूल नहीं है। इसके अलावा, हवा की दिशा उत्तर से तेजी से बदल गई।
श्रीवास्तव ने कहा, जब भी हवा की दिशा में बदलाव होता है, तो यह हवा की गुणवत्ता को प्रभावित करता है क्योंकि हवाएं थोड़ी देर के लिए शांत हो जाती हैं और फैलाव की अनुमति नहीं देती हैं। रात का तापमान भी सामान्य से नीचे है, जो फिर से फैलाव के लिए अनुकूल नहीं है। पूर्व की हवाओं के कारण नमी बढ़ गई थी, जो प्रदूषक तत्वों को जमीन के करीब ले जाती है। उन्होंने कहा कि हवा की गुणवत्ता सप्ताहांत में ‘गंभीर’ हो सकती है और 7 दिसंबर के बाद ही कोई सुधार होने की संभावना है जब उत्तर की ओर चलने वाली हवाओं की वापसी होगी।
अजीत झा/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/05/दिसम्बर/2020