व्यापार

निजी बाजार में कितनी होगी सीरम के टीके की कीमत


नई दिल्ली (ईएमएस)। पुणे से देश के विभिन्न शहरों में कोरोनारोधी टीके कोविशील्ड की सप्लाई शुरू हो चुकी है। 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू होने वाला है। ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका के कोरोना टीके कोविशील्ड का उत्पादन करने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के सीईओ अदार पूनावाला ने मंगलवार को इसे ऐतिहासिक क्षण बताया। उन्होंने बाजार मूल्य का खुलासा करते हुए कहा कि हम इसे निजी बाजार में 1000 रुपए में बेचेंगे। अदार पूनावाला ने बाजार मूल्य का खुलासा करते हुए कहा कि हम इसे निजी बाजार में 1000 रुपए में बेचेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार से मंजूरी मिलने के बाद इसे बाजार में, कॉर्पोरेट्स या केमिस्ट की दुकानों पर बेचेंगे। फरवरी-मार्च तक 5-6 करोड़ खुराक सरकार को देंगे। यदि सरकार की ओर से मंजूरी मिलती है तो हम बाजार में उतार सकते हैं। उसके लिए हमारे पास स्टॉक है। अदार पूनावाला ने कहा कि यह ऐतिहासिक कदम है कि कोविशील्ड टीका पुणे स्थित हमारी फैक्ट्री से रवाना किया जा रहा है। हमारे लिए मुख्य चुनौती इसे देश में सबको उपलब्ध कराना है। यह 2021 के लिए हमारी चुनौती है। अदार पूनावाला ने कहा कि सरकार की अपील पर 10 करोड़ खुराक 200 रुपए प्रति खुराक की विशेष कीमत पर दी गई है, ताकि आम लोगों, जरूरतमंदों, गरीबों और स्वास्थ्यकर्मियों की मदद की जा सके। उन्होंने कहा कि पहली 10 करोड़ खुराक के लिए हमने कोई मुनाफा नहीं लेने का फैसला किया है। हम देश और सरकार की मदद करना चाहते हैं। पूनावाला ने यह भी कहा कि इसके बाद सरकार को टीके की लागत कीमत 200 रुपए से कुछ अधिक मूल्य देना होगा। अदार पूनावाला ने कहा, कई देश भारत और प्रधानमंत्री कार्यालय को सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन सप्लाई के लिए लिख रहे हैं। हम सभी को खुश रखने की कोशिश कर रहे हैं। हमें अपने देश और आबादी का भी ध्यान ध्यान रखना है। हम अफ्रीक्रा, साउथ अफ्रीका में वैक्सीन सप्लाई की कोशिश कर रहे हैं। हम कुछ ना कुछ हर जगह दे रहे हैं। हम सभी को खुश रखने की कोशिश करेंगे। पूनावाला ने कहा कि हम 7-8 करोड़ खुराक हर महीने बनाते हैं। इस बात पर विचार किया जा रहा है कि कितनी खुराक भारत को और कितने दूसरे देशों को दिए जाएंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने टीके को ले जाने की योजना तैयार की है। हमने ट्रक, वैन और कोल्ड स्टोरेज के लिए निजी कंपनियों के साथ भी पार्टनरशिप की है।
अजीत झा/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/13/जनवरी/2021