देश

कोरोना का टीका लगवाने वाले विश्व के चुनिंदा नेताओं में शुमार हुए मोदी


नई दिल्ली (ईएमएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 का टीका लगवाया। इसके बाद वह दुनिया के उन नेताओं में शुमार हो गए, जिन्होंने टीका लगवाने के साथ ही लोगों को टीका पर विश्वास जताने का संदेश दिया है। दरअसल, दुनिया में जहां कोरोना वायरस महामारी से निपटने की तैयारियां चल रही हैं, वहीं कुछ देशों को टीका से जुड़ी गलत सूचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतारेस ने जनवरी में कोविड-19 का टीका लगवाया था। ब्रिटेन की 94 वर्षीय महारानी एलिजाबेथ और उनके पति 99 वर्षीय प्रिंस फिलिप को जनवरी में ही विंडसर में शाही घराने के एक चिकित्सक ने टीका लगाया था। अमेरिका के 78 वर्षीय राष्ट्रपति जो बाइडन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने पद संभालने से पहले पिछले साल 21 दिसंबर को ही टीका लगवा लिया था। बाइडन ने टीका की पहली खुराक लगवाने के बाद कहा था, मैं ऐसा इसलिए कर रहा हूं ताकि दिखा सकूं कि टीका जब उपलब्ध हो तो लोगों को इसे लगवाने के लिए तैयार रहना चाहिए। इस बारे में चिंतित होने की कोई बात नहीं है। अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने भी दिसंबर में कोरोना वायरस का टीका लगवाया था। इस्रायल के प्रधानमंत्री 71 वर्षीय बेंजामिन नेतन्याहू ने दिसंबर में कोविड-19 का टीका लगवाया था। नॉर्वे के 84 वर्षीय किंग हराल्ड और 83 वर्षीय महारानी सोनजा ने 14 जनवरी को टीका लगवाया। सऊदी अरब के शाह किंग सलमान ने जनवरी में कोविड-19 का टीका लगवाया था। उनके बेटे और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने भी दिसंबर में टीका लगवाया था। दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल-मखतूम ने नवंबर में परीक्षण के तहत कोरोना वायरस का टीका लगवाया था। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो, तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोआन और सेशेल्स के राष्ट्रपति वैवेल रामकलावन ने जनवरी में कोरोना वायरस का टीका लगवाया। ग्रीस की 64 वर्षीय राष्ट्रपति कैटरीना सकेल्लारोपाउलो ने पिछले साल 27 दिसंबर को टीका लगवाया था। पोप फ्रांसिस और उनके पूर्ववर्ती पोप बेनेडिक्ट ने भी कोरोना वायरस का टीका लगवाया था। बता दें कि जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक, पूरी दुनिया में कोविड-19 के मामलों की संख्या 11.4 करोड़ से अधिक हो गई है। पूरी दुनिया में 25 लाख 30 हजार लोगों की वायरस के कारण मौत हुई है।
अजीत झा/देवेंद्र/ईएमएस/नई दिल्ली/02/मार्च/2021