मध्य प्रदेश

बिजली बिल वसूली के दवाब हो रहे हार्ट फेल!


तकनीकी कर्मचारी संघ ने लगाए गंभीर आरोप
भोपाल (ईएमएस) । प्रदेश में बिजली ​कर्मियों का हार्ट फेल इसी‎लिए हो रहा है ‎कि उन्हें ‎बिजली ‎बिल की वसूली का टेंशन होता है। कर्मचा‎रियों की मौत के पीछे काम का तनाव ही होता है। यह गंभीर आरोप मध्य प्रदेश विद्युत मंडल तकनीकी कर्मचारी संघ जबलपुर ने लगाया है। संघ का कहना है कि लगातार दो कर्मचारियों की हार्ट फेल होने की वजह से मौत हुई है। संघ के हरेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि विगत पांच अप्रैल को सुबह विजय नगर संभाग के अंतर्गत विद्युत कर्मचारी ज्वाला प्रसाद यादव सहायक लाइनमेन को सीने में अत्यधिक दर्द होने की वजह से परिवार के द्वारा निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया,जहां उसकी मृत्यु हो गई। इससे एक दिन पहले चार अप्रैल को दक्षिण संभाग के अंतर्गत उप संभाग गढ़ा में विद्युत कर्मी ओम प्रकाश जायसवाल लाइन परिचालक को सीने में अत्यधिक दर्द होने की वजह से निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी भी मृत्यु हो गई। संघ के हरेंद्र श्रीवास्तव,मोहनलाल दुबे, राजकुमार सैनी, अरुण मालवीय, इंद्रपाल, अजय कश्यप, वीरेंद्र विश्वकर्मा, दशरथ शर्मा, मदन पटेल, महेश पटेल आदि के द्वारा कंपनी प्रबंधन के ऊपर आरोप लगाया है कि लगातार कर्मचारी की कमी एवं कार्य की अधिकता होने से कर्मचारी तनाव में काम कर रहे हैं। इससे पहले कर्मी ने लगाई थी फांसी: इसके पूर्व विगत 19 मार्च को राजस्व वसूली के दबाव में आकर ठेका श्रमिक ने फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया था। घटना पाटन संभाग में हुई थी। ठेका श्रमिक केसरी मल्लाह जो गाढ़ाघाट टपरिया गांव का निवासी है उसने तनाव में आकर अपने कमरे में जाकर फांसी लगा ली। एकाएक पत्नी ने रस्सी काटकर उसकी जान बचाई। तकनीकी कर्मचारी संघ के सदस्य परिवार से मिले तो उन्होंने बताया कि अधिकारी रात दिन मेंटेनेंस एवं राजस्व वसूली करने का दबाव बनाते थे ​इस वजह से तनाव अधिक बन गया था। इसी‎लिए उनके मन में आत्महत्या करने का ‎विचार आया।
सुदामा नर-वरे/06अप्रैल2021