साहित्य

एलबम

सुदामा की साली आई है.दो-चार महीना रहेगी.यह बात काकी ने बताई तो मेरे मन मे हजार-हजार कल्पनाएं हिलोरे लेने लगी.कयोंकि सुदामा भईया अक्सर अपने एकलौती साली विभा का हरदम जिक्र करते रहते थे.यह बात चुहलबाजी के स्वर मे प्रियंका भाभी से कह देते थे काश! मेरी शादी विभा से हो जाती तो कया मजे से […]

साहित्य

लघुकथा

नाखून “ ************ रविवार का दिन शनिदेव उतारने के लिए हम मर्दों को वरदान में मिला है।हम यह सोच ही रहे थे कि पीछे से हमारी जीवन संगिनी परिवार कल्याणीं परम पूज्य अर्धांगिनी के स्वर हमारी तपस्या को भंग करते हुए आये और कहा “हे पति परमेश्वर जगत के कल्याण की कामना रखने वाले ,दिन […]

साहित्य

पुस्तक समीक्षा

स्त्री विमर्श के विभिन्न आयाम व आकांक्षा के स्वर उपन्यास – अपने अपने कुरूक्षेत्र लेखिका  – मीनाक्षी नटराजन प्रकाशक  – सामयिक प्रकाशन, नई दिल्ली समीक्षक – सुरेश उपाध्याय महाभारत की कथा व उसके पात्र हमारे चिरपरिचित है, अनेक रचनाकारो ने इस कथा, कथांश व पात्रो को अपने रचनाकर्म का हिस्सा बनाया है. इसी कडी मे […]

साहित्य

खोया-पाया

.                        सम्मानपत्र सामने पड़ा था।आँखों के सामने सपना साकार खड़ा था।पर हाथ,,उस तक पहुंच नहीं पा रहे थे।उसे देखते-देखते नीरजा की आंखों में कई दर्दीले भाव तैर उठे थे।कई कँटीली झाड़ियाँ,लता बनकर उसके चारों तरफ घेराबन्दी कर रहे थे। चेहरे पर कई रंग आ और जा रहे थे।कितने ख्वाब बुने थे इस सम्मानपत्र […]

साहित्य

लाइक्स एंड कमेंट्स

——————————— राजन के साथ फेसबुक पर कई नामचीन साहित्यकार भी मित्र के रुप में जुड़े हुए थे। उनकी रचनाओं को पढ़कर न जाने क्यों उसे भी फेसबुक पर अपनी रचना पोस्ट करना जरुरी सा लगने लगा था। मौलिक रचना लिखने में असमर्थ राजन साहित्यकारों की पुरानी रचनाओं में  अपनी बुद्धि के अनुसार फेरबदल कर अक्सर […]

साहित्य

अपने उद्देश्य में सफल रहा ‘अनाथ जीवन का दर्द’

अनाथ जीवन का दर्द लघुकथा संकलन एक विशेष उद्देश्य को लेकर संतोष सुपेकर एवं राम मूरत राही द्वारा संपादित किया गया है। इस संकलन में उज्जैन एवं इंदौर के 41 रचनाकारों की 57 रचनाएँ  संगृहीत हैं। सुंदर कवर पेज युक्त यह संकलन 112 पेज का है, जिसके एक पृष्ठ में रचनाकार का परिचय तदोपरांत उनकी […]

साहित्य

सुहाग

गीता जब शाम को बर्तन लोगों के  घरों में धो कर आई तो उसने देखा कि उसके दरवाजे पर भीड़ लगी हुई है ।उसका मन बिल्कुल घबराने लगा कलेजा मुंह को आने लगा। आखिर ऐसा क्या हुआ कि, यहां इतनी भीड़ इकट्ठा है, क्या उसके पति ने आज पी कर फिर से मारपीट की है […]

साहित्य

लघु कथा

विधवा विवाह ये तारा इधर आ, जी मासी आयी, तारा गर्दन झुकाये आ गयी, सफेद धोती मे उसके चेहरे की रंगत फिकी सी लग रही थी! तारा जा एक गिलास पानी कुछ मीठा ला, जी मासी, तारा वापस चली गई, वो नवयुवक उसे जाते देखता रहा,  बडी प्यारी बच्ची है, हा और सुदंर भी, उस […]

साहित्य

हिचक

“क्या बात है काम्या! मुझे क्यों बुलाया?”“सोच विचार कर फैसला किया है, बताना आवश्यक था! मैं सगाई तोड़ रही हूँ। मेरे इस फैसले में परिवार की सहमति भी है।“ऐसा क्या कर दिया मैंने?” अनिकेत प्रश्नों के भंवर जाल में डूबने-उतरने लगा।“कुछ करते तो और बात थी। पर कुछ नहीं किया, इसका अफसोस है।”“कोई और पसंद […]

साहित्य

पुस्तक समीक्षा

आशावादिता का संचार करती कवितायें: ‘औरत बुद्ध नहीं होती’ ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~       समीक्ष्य कृति : औरत बुद्ध नहीं होती (काव्य संग्रह)  ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~           मनुष्य को अन्य प्राणियों से उन्नत और बेहतर बनाने वाला कोई उपकरण है तो वह है उसकी भाषा। भाषा के जरिये ही मनुष्य अपने भावो-विचारों को दूसरों तक सम्प्रेषित करता रहता है और यह सम्प्रेषण […]