BLOG

*सड़क बड़े काम की !

व्यंग्य|    किसी शायर ने कहा हैं-ज़रूरत की सड़क बनाने के लिये ,अक़्सर सपनों का डामर बिछ जाता हैं |सच पूछों तो सपने सड़क पर ही सच होते हैं |सड़क पर बैठकर,लेटकर,चलकर या उतरकर |लोग तो कहते हैं ,जब तक जेब गरम थी हवा में उड़े ,ख़ाली हो गई तो सड़क पर आ गए !लेकिन […]

BLOG

सक्रिय हिन्दी योद्धा डॉ. नीना जोशी का योगदान

माँ अहिल्या का नगर इंदौर वैसे तो कई मायनों में अपनी पहचान बना चुका है । साहित्य,कला, समाज, खेल, नेतृत्व और राजनीति के बड़े दिग्गज देने वाले इस शहर ने भारत ही नहीं वरन विश्व को कई दिग्गज शख्सियतों का पुलिंदा सौंपा है। उसी तरह भाषा के प्रचार और प्रभाव की स्थापना के लिए भी […]

BLOG

कांदे के वांदे !

|व्यंग्य|||                                                                  फ़लों का राजा आम को कहा जाता हैं तो सब्जियों और मसालों का राजा बेशक़ प्याज को माना जाता हैं |इस प्रकार प्याज़ हमारे खाने में दोहरी जिम्मेदारी संभालता हैं |आम ,ढेरों प्रकार के होते हैं जिससे ये आम नही तो वो आम सही कहकर हमारा काम चल जाता हैं लेक़िन प्याज़ तो […]

BLOG

स्टीम शिक्षण पध्दति—शिक्षा में नवाचार

स्टीम(steam) ये नाम है उस शिक्षण पद्दति का जिसके माध्यम से बच्चों के दाएँ एवं बाएँ दोनो ब्रेन पूरी तरह विकसित होंगे। steam का अर्थ है-science,technology,enginering,arts,maths. स्टीम शिक्षण पद्दति एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से बच्चों को छोटी कक्षा से ही एक साथ इन सभी विषयों का ज्ञान दिया जा सकेगा। ज्ञान प्राप्त कर […]

BLOG

दिवाली क्या गई जीना हराम कर गई

-संदीप सृजन दिवाली वैसे तो खुशी का त्योहार है, हर कोई चाहता है की उसके जीवन में दिवाली आए पर कुछ लोगो को लगता है कि भगवान करे इस बार दिवाली नहीं आए क्योंकि दिवाली आने के पहले ही उनको टेंशन शुरू हो जाती है और दिवाली के बाद तो उनका जीना हराम हो जाता […]

BLOG

जिम्मेदारी से भागती आज की संतान

पिछले दिनों किसी जरूरी काम से जावरा गया था, अगले दिन सुबह वाली ट्रेन से वापसी थी। समय से स्टेशन पहुंच गया, ट्रेन हर बार की तरह समय से कुछ देरी से ही आई, ट्रेन में बैठने साथ ही मै बैग में रखी पुस्तक को निकालकर पढ़ने लगा। तभी पास में बैठी 80 वर्षीय अम्मा […]

BLOG

ख़ुश रहों !*

*●व्यंग्य●                     अख़बार में तड़के जैसे ही पढ़ा कि हम विश्व खुशहाली सूचकांक में लगातार फ़िसलते जा रहे हैं बल्कि इस वर्ष तो कुछ ज्यादा ही फिसल गये तो मैं निर्णय नही कर य पा रहा था कि ख़बर पर मैं ख़ुशी व्यक्त करू या दुःख ! क्योंकि ,दुख व्यक्त करना हैप्पीनेस इंडेक्स में एक बार […]

BLOG

बैंकों से रुपया वापस लेना आसान है ?

धन किसी देश ही नहीं व्यक्ति की भी सबसे बड़ी सामर्थ्य है। अब यह सामर्थ्य घर बदल चुकी है। देश में आर्थिक लेन- देन हेतु कभी साहूकारी या महाजनी प्रथा प्रचलित थी। उन प्रथाओं पर लोगो का विश्वास था। अधिक ब्याज व अनियमितता के चलते यह कारोबार चाहे विलुप्त सा हो गया गया है पर […]

BLOG

व्यंग्य●

*हीरा व पन्ना !*                                                             किसी शायर ने लिखा हैं- सारा शहर दुश्मन हैं उसका,आदमी जरूर अच्छा होगा ! आदमी अच्छा हो ,वह भी हमारे अपने शहर का तो फ़िर बुरा तो लगना लाज़मी हैं !बात हमारे हीरा औऱ उस पन्ना की हैं | हीरा हमेशा खून-पसीने की खेती कर फ़सल तैयार करता और हर बार […]

BLOG

आजाद हिंद सरकार की 76 वीं वर्षगांठ

बदनावर (दिलीपसिह चौहान) जिस फौज का नाम सुनकर देश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों में ऊर्जा का संचार हो जाता था और उसी फौज का नाम सुनते ही ब्रिटिश सरकार के कान खड़े हो जाते थे । वह थी नेताजी सुभाष चंद्र बोस के द्वारा बनाई गई आजाद हिंद फौज यूं तो आजाद हिंद फौज को […]