छत्तीसगढ़

वीर जवानों की स्मृति में बीजापुर में दौड़

बीजापुर, 20 (वार्ता) छत्तीसगढ़ के बीजापुर में जिला प्रशासन द्वारा देश के वीर जवानों स्मृति में आज दौड़ का आयोजन किया गया।
शहीद स्मारक तिरंगा चौक आवापल्ली से सर्किटहाउस तक की इस दौड़ को मुख्य अतिथि बस्तर प्राधिकरण उपाध्यक्ष एवं स्थानीय विधायक विक्रम शाह मण्डावी एवं पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल ने हरी झडी दिखाकर रवाना किया। इस स्मृति दौड़ में बीजापुर जिले के ही नहीं बल्कि देश विदेश के प्रतिभागियों ने भी हिस्सा लिया।
पुलिस अधीक्षक दिव्यांग पटेल ने शहीदों को नमन करते हुए कहा कि पहले बीजापुर आने के लिए लोग बहुत डरते थे। आज बीजापुर में जो भी कार्यक्रम होते हुए उसमें देश विदेश व अन्य राज्यों से प्रतिभागी निडर होकर आते है। इस स्मृति दौड़ में देश-विदेश व छत्तीसगढ़ के अन्य जिलों से लगभग 3000 की संख्या में प्रतिभागियों ने भाग लिया।
स्मृति दौड़ प्रतियोगिता 12 किलोमीटर में महिला एवं पुरुष के लिए प्रथम स्थान 50 हजार रुपये व प्रतीक चिन्ह, द्वितीय स्थान पर 30 हजार रुपये एवं प्रतीक चिन्ह एवं तृतीय स्थान पर 20 हजार रुपये एवं प्रतीक चिन्ह एवं 3 किलोमीटर में महिला एवं पुरुष के लिए प्रथम स्थान पर 10 हजार एवं प्रतीक चिन्ह, द्वितीय स्थान पर 06 हजार एवं प्रतीक चिन्ह व तृतीय स्थान पर 04 हजार रुपए एवं प्रतीक चिन्ह रखा गया था।
इस प्रतियोगिता में केन्या से आये प्रतिभागियों ने बीजापुर की शान बढ़ाई। स्मृति दौड़ 12 किमी पुरुष वर्ग में प्रथम स्थान पर केन्या के मोसेस कीपोर रहे। उन्होंने यह दौड़ 38.52 मिनट में पूरी की।
द्वितीय विजेता केन्या के ही नाओ किप्सांग ने 38.55 मिनट पर एवं तृतीय विजेता पुकेश्वर लाल ने 40.48 मिनट पर अपनी दौड़ पूरी की। महिला वर्ग में प्रथम स्थान पर केन्या की केरेन जेबेट रहीं। उन्होंने 45.31 मिनट पर अपनी दौड़ पूरी की। द्वितीय विजेता ब्रिगिड जेरोनो ने 50.46 मिनट पर और तृतीय विजेता दल्लीराजहरा की विमला पटेल ने 52:06 मिनट पर दौड़ पूरी की। 03 किमी पुरुष वर्ग दौड़ में प्रथम प्रथम लिलेश्वरे, द्वितीय अजित कुमार व तृतीय हरलाल मण्डावी, महिला वर्ग में प्रथम स्थान सुनीता, द्वितीय स्थान कुमली पोयाम एवं तृतीय स्थान मंजू मोडियमी ने हासिल किया। स्मृति दौड़ में सरजू प्रसाद 80 वर्ष के बलौदाबाजार छत्तीसगढ़ के मिल्खा सिंह एवं चौथे से दसवें स्थान प्राप्त करने वाले सभी वर्ग के प्रतिभागियों को सांत्वना पुरस्कार के रूप में बैग एवं प्रतीक चिन्ह दिया गया।
करीम नाग
वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *