स्वास्थ्य

आधुनिक जीवन शैली से बढ़ रहा है कैंसर के मामले

कानपुर: वर्तमान समय में जीवन शैली में आ रहे बदलाव के कारणए अधिक से अधिक युवा महिलाओं में स्तन कैंसर होने की आशंका है। महिलाओं में सबसे घातक कैंसर में से एकए स्तन कैंसर से 40 वर्ष से कम आयु की 7 प्रतिषत से अधिक महिलाएं पीड़ित हो रही हैं।
महिलाएं आम तौर पर इसके निदान में देरी करती हैं। कई युवा महिलाएं स्तन में गांठ या निप्पल से असामान्य स्राव जैसे चेतावनी संकेतों को अनदेखा करती हैं। कई महिलाएं यह भी मानती हैं कि इस तरह की जटिलताएं होने के लिए उनकी उम्र अभी कम है या मामूली अल्सर को हानिरहित मानती हैं। युवा महिलाओं मेंए स्तन कैंसर का निदान इसके बाद के चरणों में किया जाता है और यह अधिक आक्रामक पाया जाता है। युवा महिलाओं में मृत्यु दर भी अधिक होती है और मेटास्टैटिक पुनरावृत्ति का खतरा अधिक होता है।

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटलए साकेत के गाइनेकोलॉजिक ऑन्कोलॉजी की एसोसिएट कंसल्टेंट डॉ कनिका बत्रा मोदी ने कहाए ष्ष्जीन में आनुवांषिक उत्परिवर्तन कैंसरयुक्त जीन के पारित होने की संभावना लगभग 10 प्रतिषत बढ़ा देता है। फिर भी 90 प्रतिषत मामले अप्रत्याषित होते हैं। किसी महिला में 40 वर्ष की आयु सीमा के भीतर स्तन कैंसर का पता चलने पर उसमें ओवरी और स्तन कैंसर दोनों के लिए जोखिम कारक दोगुना हो जाता है। कैंसर के होने का खतरा तब भी बढ़ जाता है जब 60 साल से कम उम्र की महिलाओं में ट्रिपल निगेटिव स्तन कैंसर होता है। यह एक प्रकार का स्तन कैंसर है जिसमें एस्ट्रोजन रिसेप्टर्सए प्रोजेस्टेरोन रिसेप्टर्स और ह्युमन एपिडर्मल ग्रोथ फैक्टर रिसेप्टर का अभाव होता है।

हालांकि सेल फोन और इसके टॉवर से गैर.आयनीकरण विकिरणों के कारण कैंसर होने का कोई प्रमाणित प्रमाण नहीं हैए लेकिन कई कैंसर सोसायटी ने इसके लंबे समय तक उपयोग पर चिंता जताई है। सेल फोन एक प्रकार की ऊर्जा का उत्सर्जन करते हैं जिसे रेडियोफ्रीक्वेंसी तरंगों ;आरएफद्ध के रूप में जाना जाता हैए जो किसी भी प्रकार की प्रत्यक्ष क्षति नहीं पहुंचाती हैए लेकिन इसे मनुष्यों के लिए एक संभावित कैंसर कारक माना जाता हैए खासकर मस्तिष्क ट्यूमर के लिए।

उन्होंने कहाए ष्ष्इस बारे में लोगों को बहुत कम पता है कि पुरुषों को भी स्तन कैंसर होने की आशंका होती है। पुरुषों में स्तन ऊतक महिलाओं की तुलना में छोटा होता हैए लेकिन वयस्क पुरुष स्तन में ऊतक की प्रकृति उसी तरह की होती है जैसी यौवन से पहले लड़की के स्तन की होती है। पुरुष स्तन कैंसर में विवाद का कारण यह है कि पुरुशों में इसके होने का कम संदेह होने के कारण उनमें महिलाओं की तुलना में बाद के चरण में इसका निदान किया जाता है। इसके अलावाए उनके स्तन में ऊतक की मात्रा कम होने के कारण इन कैंसर का जल्द पता लगाना मुश्किल हो जाता है और वे आसपास के ऊतकों में भी जल्दी फैल जाते हैं। इसके अलावा हाल के कई शोधों से यह भी पता चला है कि किसी पुरुश की मां के स्तन कैंसर से पीड़ित होने पर उस पुरुष के प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित होने की संभावना बढ़ जाती है।ष्ष्

मोटापा शरीर में एक क्रोनिक इंफ्लामेटरी अवस्था की षुरुआत करता है जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कैंसर का कारण बन सकता है। स्तनए एंडोमेट्रियलए एसोफैगलए पित्ताशयए आंत्रए अग्नाशयए यकृतए गुर्दे आदि जैसे विभिन्न प्रकार के कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन इनके होने के सटीक कारण अस्पष्ट हैं।

डॉण् कनिका ने कहाए ष्ष्प्रोमिसक्युइटी महिलाओं में गर्भाशय के कैंसर के विकास के लिए महत्वपूर्ण कारणों में से एक है। गर्भाषय कैंसर के 95 प्रतिषत से अधिक मामलों में यह मुख्य रूप सेए ह्युमन पैपिलोमा वायरस ;एचपीवीद्ध के ऑन्कोजेनिक स्ट्रेन के कारण होता है। हालांकिए एचपीवी को हानिकारक माना जाता है लेकिन सर्वाइकल कैंसर होने के लिए यह पर्याप्त कारण नहीं है। अधिकांश महिलाएं एंटीबॉडी विकसित करके षरीर से वायरस को निकालने के लिए प्रतिरक्षा तंत्र विकसित कर लेती हैं। लेकिन कुछ प्रभावित लोगों मेंए एचपीवी जीनोम के भीतर होता है और प्रभावित कोशिकाओं का म्यूटाजेनिक परिवर्तन कर देता है। इसलिए इम यह नहीं कह सकते कि प्रोमिसक्युइटी सर्वाइकल कैंसर पैदा करता हैए लेकिन एचपीवी संक्रमण को बढ़ावा देता है जिसका सर्वाइकल कैंसर से सीधा संबंध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *