काव्य ग़ज़ल

भारतीय सभ्यता संस्कृति संजोये..

भारतीय सभ्यता संस्कृति संजोये

समय की श्याही कथन की कलम से

ओस बंूद समेटके घर-घर दीप जलाएं

कंकर से शंकर देवता तराषकर

कड़वे नीम की मीठी शक्कर बनाए

                        काम, क्रोध, मद्य, लोभ हटाके       

                        आलस्य मय्यसर मोह मिटाएं

                        अल्पविराम, पूर्णविराम लगाके

                        नषा बाल विवाह बंद कराए

कटूता, व्याकुलता, कोलाहल हटाके

सगुन सकुन, सुंदर फूलवारी लगाए

पीढ़ा, प्रताड़ना, उत्पीड़न मिटाके

लज्जा भंग दुःख यातना हटाएं

                        अवतारियो की आत्मकथा लिखके

                        धार्मिक वैज्ञानिक मंथन कराएं

                        सकारात्मक, साहस भी दिखाके

                        सत्य, अंहिसा के पाठ पढ़ाएं

मूल मंत्र पर्यावरण प्रदूषण हटाके

प्लास्टिक रहित शौचालय बनाए

सिंचित प्रारब्ध क्रियावान हटाके

निर्मल मन स्वच्छता शपथ दिलाएं

                        किसान हित में सोध सभी कराके

                        आवष्यक वस्तु का अविष्कार कराए

                        जय जवान, जय किसान नारे से

                        अन्नदाता का मान सम्मान बढ़ाएं

सौहार्द की सड़क प्रेम के फूल से

अंधकार में सूर्य का प्रकाष फैलाएं

हास्य की फुंहार व्यंग्य के प्रहार से

भारतीय सभ्यता संस्कृति सजाएं

                                                                                                 रामसिंह राजपूत

                                                                              ग्राम बरखेड़ा कोतापाई, पोस्ट राजोदा

                                                                                            जिला देवास मप्र (455001)

                                                                                          मोबा. नं. 9977066249

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *